अलाभकारी संस्थाओ के लेखे के नोट्स Class 12 Accountancy Notes


आज इस पोस्ट में अलाभकारी संस्थाओ के लेखे के नोट्स (गैर-लाभकारी संगठन के लेखांकन) दिए गए हैं यह क्लास 12 के लिए एक महत्वपूर्ण चैप्टर हैं यह अलाभकारी संस्थाओ के लेखा चैप्टर एग्जाम में 5  नंबर का आता हैं   तो दोस्तों हम आपके लिए rbse class 12 accountancy notes in hindi सीरीज लाये हैं। इस सीरीज को फॉलो करने के लिए kumawattutor.xyz को follow करना ना भूले। 

not for profit organisation नोट्स की विषय सूचि 

  • अलाभकारी संस्थाएं किसे कहते हैं
  • अलाभकारी संस्थाओं के गुण फीचर्स
  • गैर व्यापारिक (अलाभकारी) संस्थाओं की मुख्य पुस्तकें
  • गैर व्यापारिक (अलाभकारी) संस्थाओं से संबंधित कुछ मदे
  • not for profit organisation विवरण
  •  प्राप्ति और भुगतान किसे कहते हैं
  • आय व्यय खाता किसे कहते हैं
  •  स्थिति विवरण/ चिट्ठा/ बैलेंस शीट


गैर व्यापारिक संस्थाएं किसे कहते हैं what is non profit organization


ऐसी संस्था जिनका मुख्य उद्देश्य लाभ न कमाकर सार्वजनिक कार्य करना होता है  अलाभकारी संस्थाएं कहलाती है इन संस्थाओं को गैर व्यापारिक संस्थाएं भी कहते हैं जैसे कि शिक्षण संस्थाएं, धर्मशाला , अनाथालय, औषधालय, खेलकूद परिषद, पुस्तकालय, धर्म प्रचारक संस्थाएं आदि संस्थाएं अलाभकारी संस्थाएं होती है

अलाभकारी संस्थाओं के गुण फीचर्स features of not for profit organization

  1. इनका का मुख्य उद्देश्य लाभ कमाना नहीं होता बल्कि समाज सेवा करना होता है।
  2. ऐसी संस्थाओं को गैर व्यापारिक संस्थाओं में शामिल किया जाता है।
  3. अलाभकारी संस्थाओं में कोई भी व्यापारिक गतिविधि  (क्रय विक्रय) नहीं होती है।
  4. सामान्य तौर पर इनके पास स्मारक बही, स्टॉक रजिस्टर, रोकड़ बही, सदस्य रजिस्टर, ही होते हैं

अलाभकारी संस्थाओं की मुख्य पुस्तकें  books of not for profit organization

  • कैश बुक
  • स्टॉक रजिस्टर
  • मेंबर्स रजिस्टर 
  • मेमोरेंडम बुक्स


 interies of not for profit organization अलाभकारी संस्थाओं से संबंधित कुछ मदे

  • interest peace
  •  life membership fees
  •  subscriptions
  • donation
  • sale of old pager
  • legacy
  • special fund 
  • donation from government

 Not for profit organisation Accounts 

    • रिसिप्ट एंड पेमेंट 
    • अकाउंट हाईवे खाता
    •  स्थिति विवरण


receipt and payment account meaning प्राप्ति और भुगतान किसे कहते है 

वह खाता जिसके अंदर प्राप्ति और भुगतान की मर्दों को लिखा जाता है। प्राप्ति और भुगतान खाता  कहलाता हैं। यह खाता रोकड़ बही की सहायता से मनाया जाता है। इस खाते में केवल रोकड़ लेनदेन वाली ही मदो को सम्मिलित किया जाता है।  यह खाता केवल गैर व्यापारिक संस्थाएं ही बनाती है।

प्राप्ति एवं भुगतान तथा रोकड़ बही में अंतर

  1.  तिथि वार = प्राप्ति एवं भुगतान खाता में मदो को तिथि के अनुसार नहीं लिखा जाता है तथा रोकड़ बही में संपूर्ण मदो को तिथि के अनुसार लिखा जाता है
  2. अवधि = प्राप्ति और भुगतान खाता एक निश्चित समय या वर्ष के अंत में बनाया जाता है। जबकि रोकड़ बही में मदो का लेखा साल भर चलता रहता है
  3. स्वरूप = प्राप्ति में भुगतान खाता रोकड़ बही का संक्षिप्त रूप है रोकड़ बही रोकड़ का विस्तृत रूप है
  4. प्रकृति = प्राप्ति एवं भुगतान खाता एक स्मरणार्थ खाता है तथा रोकड़ बही एक मुख्य पुस्तक है 

आय व्यय खाता किसे कहते हैं

वह खाता जिसमें चालू वर्ष से संबंधित राजस्व प्राप्ति एवं भुगतानो को दर्ज किया जाता है आय व्यय खाता कहलाता है आय व्यय खाता लाभ हानि खाता के समान होता है सामान्य तौर पर आय व्यय खाता प्राप्ति और भुगतान खाता की कमियों को दूर करने के लिए बनाया जाता है अलाभकारी संस्थाओं में

आय व्यय खाता और प्राप्ति और भुगतान खाता में अंतर

  • प्रकृति = आय व्यय खाता नाममात्र खाता है तथा प्राप्ति व भुगतान खाता वस्तुगत खाता है।
  •  नकद = आय व्यय खाता में चालू हुआ से संबंधित नगद ले लेन-देन को दिखाया जाता है इसमें भी सभी  नकद लेनदेन दर्शाए जाते हैं चाहे वे आगामी, पूर्व या चालू वर्ष से संबंधित हो।
  • आवश्यकता = लाभ हानि की जानकारी हेतु आय व्यय खाते को बनाना आवश्यक होता है। जबकि प्राप्ति भुगतान खाता को बनाना आवश्यक नहीं होता।
  •  शेष = हाईवे खाता बचत घटा दर्शाता है जबकि प्राप्ति भुगतान खाता रोकड़ बही का अन्तिम शेष बताता है।

 स्थिति विवरण/ चिट्ठा/ बैलेंस शीट 

आमतौर पर अलाभकारी संस्थाओं द्वारा गत वर्ष का चिट्ठा चालू वर्ष की प्राप्ति एवं भुगतान खाता तथा चालू वर्ष के उपलब्ध सूचनाओं के अनुसार ही  स्थिति विवरण/ चिट्ठा/ बैलेंस शीट बनाया जाता है

क्या सीखा 
आज इस पोस्ट में हमने t chapter in hindi notes ) में  अलाभकारी संस्थाएं किसे कहते हैं, अलाभकारी संस्थाओं के गुण फीचर्स, अलाभकारी संस्थाओं की मुख्य पुस्तकें, अलाभकारी संस्थाओं से संबंधित कुछ मदे, not for profit organisation विवरण,  प्राप्ति और भुगतान किसे कहते हैं, आय व्यय खाता किसे कहते हैं, स्थिति विवरण/ चिट्ठा/ बैलेंस शीट, आदि के बारे में अच्छे से जाना। 

अगर आपको rbse class 12 accountancy notes पुरे units के नोट्स चाहिए तो कमेन्ट बॉक्स में कमेंट जरूर करे। 
Natish kumawat

दोस्तों मेरा नाम Natish Kumawat है मैं Kumawat Tutor Website का founder हूं। हमारा इस ब्लॉग को बनाने का मुख्य उद्देश्य हिंदी भाषा के लोगो को महत्वपूर्ण जानकारी provide करवाना है। आपको यहाँ पर शिक्षा, तकनीकी, कंप्यूटर से जुडी हर तरह की जानकारी अपनी मातृ भाषा HINDI में मिलने वाली है।

एक टिप्पणी भेजें

और नया पुराने