अनुपात विश्लेषण(anupat vishleshan) क्या है

अगर आप कॉमर्स बैकग्राउंड से है तो आप यह जानना चाहते हैं। कि अनुपात विश्लेषण(anupat vishleshan) क्या है और अनुपात विश्लेषण किस तरह काम करता है। इसके फायदे क्या है तो आज विषय के लिए हम इस पोस्ट में बात करेंगे। अनुपात विश्लेषण से रिलेटेड टॉपिक्स के बारे में।

विषय सूची
अनुपात  क्या है ?
(anupat  kya hai)
अनुपात विश्लेषण क्या है (anupat vishleshan kya hai)
अनुपात कितने होते हैं (anupaat kitne hote h)
अनुपात विश्लेषण के लाभ (profile of ratio analysis)
अनुपात विश्लेषण कि सीमाएं (limitations of ratios analytics)

अनुपात  क्या है ?
anupat  kya hai


दो या दो से अधिक संख्या तमक तथ्यों की तुलना करना ही अनुपात कहलाता है। अनुपात वित्तीय विवरणों की दो या दो से अधिक मतों के बीच संख्यात्मक संबंध प्रदर्शित करता है

अनुपात विश्लेषण क्या है
anupat vishleshan kya hai


अनुपात विश्लेषण वित्तीय विश्लेषण का महत्वपूर्ण चरण है। अनुपात विश्लेषण के अंदर विभिन्न अनुपातों की सहायता से वित्तीय विवरणों का अधिक स्पष्टता के साथ विश्लेषण किया जाता है। इस प्रकार से किए गए विश्लेषण से उचित निर्णय लिए जा सकते हैं।

अनुपात कितने होते हैं
anupaat kitne hote h


अनुपात चार प्रकार के होते हैं इनके अलग-अलग जगह से होते हैं अनुपात के विभिन्न उपयोगकर्ताओं के दृष्टिकोण से अनेक प्रकार के अनुपात आते हैं
1. liquidity ratio
2. turnover / activity / performance ratio
3. profitability ratios
4. long-term financial position/ solvency ratios


अनुपात विश्लेषण के लाभ
profile of ratio analysis


  • वित्तीय  निर्णय को प्रभावशाली बनाने के लिए अनुपात विश्लेषण की मदद ली जाती है। अनुपात विश्लेषण से तुलना करने में सहायता मिलती है।
  • किसी भी निर्माण संस्था के लिए लागत नियंत्रण अत्यंत आवश्यक होता है। लागत नियंत्रण के संबंध में अनुपात विश्लेषण से काफी सहायता मिलती है।
  • अंश धारी के लिए किसी संस्था में निवेश करने में के लिए profit and loss  ratio काफी महत्वपूर्ण सहायता प्रदान करता है। तथा अंश धारी के लिए भी अनुपात महत्वपूर्ण होता है

अनुपात विश्लेषण कि सीमाएं
limitations of ratios analytics


  • विभिन्न वर्षो के अनुपातों की तुलना करते समय कीमतों मैं  परिवर्तन को बी ध्यान में रखा जाना आवश्यक हैं।
  • कभी-कभी अनुपात गणको मैं लेखाकर्म संबंधित ज्ञान कमी पाई जाती है। और वे अपने अधूरे जान के आधार पर अनुपात की गणना कर देते हैं।
  • वस्तुतः अनुपात मदो के साथ ही निकाला जाता है किंतु कभी-कभी गैर संबंधित मदो के साथ के अनुपात निकाल लिया जाता है। जैसे भी विक्रिय और गैर सरकारी प्रतिभूतियों में विनियोग। ऐसी स्थिति में प्राप्त परिणाम निसंदेह गलत होते हैं।

हमने क्या सिखा
आज हमने अनुपात विशेषण क्या होता है। और अनुपात विश्लेषण से रिलेटेड बिंदुओं पर बात जीत कि अगर आपको किसी भी प्रकार की परेशानी है।तो कमेंट बॉक्स में कमेंट करें।
Natish kumawat
दोस्तों मेरा नाम Natish Kumawat है मैं Kumawat Tutor Website का founder हूं। हमारा इस ब्लॉग को बनाने का मुख्य उद्देश्य हिंदी भाषा के लोगो को महत्वपूर्ण जानकारी प्रधान करवाना है। आपको यहाँ पर शिक्षा, तकनीकी, कंप्यूटर से जुडी हर तरह की जानकारी अपनी मातृ भाषा HINDI में मिलने वाली है।
There is no other posts in this category.

एक टिप्पणी भेजें

Subscribe Our Newsletter